05 March, 2011

क्षणिकाएं

     आत्मीयता बनती है तभी , जब हमको कोई जानता है !                                                                                        
     सफलता हाथ लगती उसे, जो मन में पक्की ठानता है !                                                                                             

     बहुत महत्व की होती है, छोटी-छोटी बातें व्यवहार में !                                                                                                    
     छोटी-सी भूल भी जीत को, बदल देती है देखो हार में !                                                                                                

     यह बात सभी कहते आए, गुरू का सदां सम्मान करो !                                                                                           
     अब यह भी कहना होगा, गुरू की पहले पहचान करो !                                                                                       

     हंसना स्वभाव है जीवन का, रोना उसकी मजबूरी है !                                                                                                            
     दुःख  को हल्का करने खातिर, रोना भी बहुत जरूरी है !                                                                                          

     हर कोई भावुक नहीं होता,  कुछ भले लोग ही होते हैं !                                                                                              
     हंसना कहाँ गवारा उनको, जो सब के संग-संग रोते हैं !               

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

There was an error in this gadget

About Me

My Photo
कवि सहज
View my complete profile