04 March, 2011

किण बात रो आपां करां गुमान

                                                                                                                                                                   
       धन-दौलत सदां नै थिर रेवे, आ तो घिरत बिरत री छियां है !                                                                                       
       जिण जन नहीं सही उपयोग करयो,बांरी हालत हुई कियां है !                                                                                                                  
       माया रो नशों बड़ो है बैढ़गों,नहीं रेवन देवे अच्छे बुरे रो भान !                                                                                                               
       ----------------------        किण बात रो आपां करां गुमान !                                                                                                               
  
      जैकी बात दौलत व धन री है,बा सागी बात थारे तन री है !                                                                                   
      लियो खेल-कूद रो घणो मजो,अब यादां आवे बचपन री है !                                                                                  
      भई जोश जवानी दिन चार भली, गर करां एरों सही मान !                                                                                                    
     -------------------          किण बात रो आपां करां गुमान !                                                                                        
  
      जो करणों थाने अब करले, आछी बातां स्यूं झोली भर ले !                                                                                                   
      जदै आय बुढापो घेरे गो , फेरूँ किण बिध माल्ला फेरे गो !                                                                                          
      अन्जान नहीं सो जाने तूं ,फेरूँ भी क्यों बन्यो अनजान !                                                                                                  
      -------------------        किण बात रो आपां करां गुमान !

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

There was an error in this gadget

About Me

My Photo
कवि सहज
View my complete profile