13 March, 2011

क्षणिकाएं भाग-२

क्या करूं,क्या न करूं, जो सोचे सुबह और शाम !                                                                                                                                                                                              
                              दुविधा में दोनो गए,  न माया मिली न राम !                                                                                                                                                                

अच्छा करने से जीवन में, कब किसी ने हमको रोका !                                                                                                                                      
             आलस्य के बशीभूत होकर,हम स्वयं गंवा देते हैं मौका !                                                                                                            

आम आदमी का मुहावरा, "तुझे याद करा दूंगा नानी"!                                                                                                                                      
             मां की याद भी होगी ताजा, यह होगी उसकी मेहरबानी !                                                                                                                                                                

"अब दादूर वक्ता भये, फ़िर हमको पूछत कौन" !                                                                                                                                                                            
             दूनिया उनको सुनना चाहती, जो अक्सर रहते हैं मौन !                                                                                                                                            

बन्दूक की गोली से घायल,इंसान  अधिक डरता नहीं !                                                                                                                                                    
                 पर जुबान की गाली का जख्म, उम्र भर भरता नहीं !                                                                                                                              
.
संभल जाता है गिरता व्यक्ति, यदि फ़िसले उसके पांव !                                                                                                                                                      
                  जुबान फ़िसल जाने पर, लग जाती है इज्जत दांव !                                                                                                                                                        

जब जब बाल दिवस हैं आते, चाहता मैं भी बच्चा होना !                                                                                                                                              
          लेकिन फ़िर घबरा जाता हूं,रास नहीं आता सच्चा होना !

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

There was an error in this gadget

About Me

My Photo
कवि सहज
View my complete profile